Contact: +91-9711224068
International Journal of Applied Research
  • Multidisciplinary Journal
  • Printed Journal
  • Indexed Journal
  • Refereed Journal
  • Peer Reviewed Journal

ISSN Print: 2394-7500, ISSN Online: 2394-5869, CODEN: IJARPF

IMPACT FACTOR (RJIF): 8.4

Vol. 9, Issue 11, Part C (2023)

स्वामी दयानंद सरस्वतीः सामाजिक और धार्मिक दर्शन एक अध्ययन

स्वामी दयानंद सरस्वतीः सामाजिक और धार्मिक दर्शन एक अध्ययन

Author(s)
मनीष कुमार
Abstract
स्वामी दयानंद सरस्वती वेद शास्त्रों के एक महान विद्वान, समाज सुधारक और आर्य समाज के प्रवर्तक के रूप में विश्व प्रसिद्ध हैं। वे इस युग के पहले व्यक्ति थे, जिन्होंने सभी के लिए अनिवार्य शिक्षा के लिए कानून बनाया और मनुष्यों के लिए शिक्षा के समान अधिकार की क्रांतिकारी घोषणा करके इसे लागू किया।
वह पहले भारतीय हैं जिन्होंने आधुनिक युग में मनुष्य की समानता और सभी के लिए समान अवसर के सिद्धांत का प्रतिपादन किया। 19वीं शताब्दी के धार्मिक और सामाजिक सुधार आंदोलनों के साथ भारतीय राष्ट्रवाद के विकास में एक नए युग की शुरुआत हुई। इस समय समाज सती प्रथा, जाति व्यवस्था, बाल विवाह, मूर्ति पूजा, अस्पृश्यता आदि बुराइयों से प्रदूषित था। इस समय ईसाई मिशनरियों द्वारा किए जा रहे प्रचार के कारण लोगों का ध्यान ईसाई धर्म की ओर आकर्षित हो रहा था और वे हिंदू धर्म के प्रति उदासीन हो रहे थे। इस समय देश में पुनर्जागरण हुआ और विभिन्न सुधारकों ने देश की सामाजिक और धार्मिक स्थिति में कई सुधार किए, जिसके कारण आधुनिक भारत के निर्माण को बढ़ावा मिला। स्वामी जी ने भारत के गौरवशाली अतीत को प्रबुद्ध किया और देशवासियों को अपनी शोषित स्थिति से ऊपर उठकर भविष्य की ओर बढ़ने के लिए प्रेरित किया। स्वामी दयानंद सरस्वती को किसी भी अन्य क्षेत्र की तुलना में समाज सुधारक के रूप में अधिक प्रसिद्धि मिली। समाज सुधार की दिशा में स्वामी दयानंद का पहला मुख्य कार्य अस्पृश्यता का विरोध करना था। स्वामी जी का मानना था कि उचित शिक्षा के अभाव में किसी भी देश का सर्वांगीण विकास संभव नहीं है। स्वामी जी ने युवाओं के चरित्र निर्माण पर जोर दिया और उन्हें सच्ची अवैध निर्भीकता का सबक सिखाया। स्वामी जी अपने सामाजिक विचारों में संपूर्ण मानव जाति के उत्थान पर जोर देते थे, वे वैदिक आश्रम प्रणाली का भी समर्थन करते थे।
स्वामी दयानंद ने देश की एकता के संदर्भ में शिक्षा को महत्वपूर्ण माना और इस तथ्य को प्रस्तुत किया कि देश को एकता के सूत्र में जोड़ने के लिए पूरे देश में हिंदी भाषा का प्रचलन होना चाहिए। स्वामी दयानंद सरस्वती अनिवार्य शिक्षा के पक्ष में थे। उन्होंने ऐसी शिक्षा प्रणाली को अपनाने पर जोर दिया जो पूरी तरह से राष्ट्रीय हो और जो ऐसे नागरिक पैदा करे जिनमें समाज के प्रति कर्तव्य और जिम्मेदारी की भावना हो। स्वामी दयानंद न केवल एक धार्मिक सुधारक थे, बल्कि उन्होंने भारत के अधीनता की राजनीतिक दुर्दशा को भी गंभीरता से महसूस किया। दयानंद ने सबसे पहले यह आवाज उठाई कि विदेशी शासन को समाप्त करके भारत में स्वशासन स्थापित किया जाना चाहिए। स्वामी दयानंद के अनुसार, सत्य को जानने के लिए वेद ही एकमात्र प्रमाण हैं।
वेदों के अनुसार जो कुछ भी है वह सत्य है और जो कुछ भी वेदों के विरुद्ध है वह असत्य है। उनके अनुसार, धर्म कई नहीं हो सकते क्योंकि भगवान एक हैं, इसलिए धर्म भी एक है।
स्वामी दयानंद एक ऐसे धर्म में विश्वास करते थे जो सार्वभौमिक हो और जिसके सिद्धांतों को सभी मनुष्यों द्वारा सत्य के रूप में स्वीकार किया जाता हो। स्वामी दयानंद ने धर्म की उदार व्याख्या की और एक ईश्वर पर जोर दिया।
Pages: 160-165  |  126 Views  48 Downloads
How to cite this article:
मनीष कुमार. स्वामी दयानंद सरस्वतीः सामाजिक और धार्मिक दर्शन एक अध्ययन. Int J Appl Res 2023;9(11):160-165.
Call for book chapter
International Journal of Applied Research
Journals List Click Here Research Journals Research Journals